मिशन 2019: कांग्रेस को राजद का एेतराज मंजूर नहीं, अनंत सिंह-पप्पू यादव भी चलेंगे

Published On: February 7, 2019 at 9:59 AM 0 Comments R Baranwal

शराफत के नाम पर जो लोग कांग्रेस से उम्मीद कर रहे हैं कि वह पप्पू यादव और अनंत सिंह को अपना उम्मीदवार नहीं बनाएगी, उन्हें निराशा हाथ लग सकती है। कांग्रेस उन्हें उम्मीदवार बनाने के लिए ठोस तर्क गढ़ रही है। वह है-जीतने वाला चेहरा चाहिए। चमक वाले चेहरों से कांग्रेस को क्या मिला? देश भर में सिर्फ 44 सीटें मिली थीं। असल चीज है संसद और विधानसभा में ताकत बढ़ाना। इसके लिए सब जायज है।

कांग्रेस अपने दावे की सीटों का मसला भी दो दिन बाद हल कर लेगी। नौ फरवरी को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव की चर्चा के लिए प्रदेश अध्यक्षों और विधान मंडल दल के नेताओं की बैठक बुलाई है। प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, प्रदेश अध्यक्ष डा. मदन मोहन झा और विधायक दल के नेता सदानंद सिंह और संचालन समिति के अध्यक्ष डा. अखिलेश प्रसाद सिंह इसमें शामिल होंगे।

बिहार के लिए बैठक का मुद्दा है-कांग्रेस लोकसभा की किन सीटों पर जीतने की हालत में है। राजद के सामने कितनी सीटों का दावा किया जाए। कितनी सीट मिलने पर राजी हुआ जाए।

सूत्रों की माने तो पार्टी 10-12 सीटों पर वह मान जाएगी। 2014 के लोकसभा चुनाव में उसे 12 सीटें मिली थीं। तब उतने उम्मीदवार उसे दल में नहीं मिले थे। इस बार भी वह एक दर्जन से अधिक सीटों की मांग करेगी। ताकि सौदेबाजी के दौरान जरूरत भर सीटें मिल जाएं। 20 फरवरी तक कांग्रेस के संभावित उम्मीदवारों की सूची बन जाएगी।

एक समस्या पप्पू यादव को लेकर पैदा हो रही है। राजद के नेता तेजस्वी यादव को उनके नाम पर एतराज है। लेकिन, मंगलवार को पप्पू यादव और राहुल गांधी के बीच मुलाकात के बाद यह तय हो गया है कि कांग्रेस परवाह नहीं करेगी। उसने राजद के एतराज का भी काट खोज लिया है।

राजद को कहा जा सकता है कि आप भी उन तमाम लोगों से मिलते हैं, जिन्हें कांग्रेस से परहेज है। उदाहरण के तौर पर यूपी प्रकरण की चर्चा की जा सकती है। अखिलेश यादव और मायावती ने कांग्रेस से किनारा कर लिया। फिर भी तेजस्वी यादव उन दोनों के साथ दोस्ताना रिश्ता निभा रहे हैं।

इसी तरह अनंत सिंह के लिए भी जवाब है-उनकी बराबरी वाले कई दबंग राजद टिकट के दावेदार हैं। गोहिल पहले ही इस तर्क के साथ अनंत सिंह सिंह के पक्ष में खड़े हैं कि उनके बड़े भाई दिलीप सिंह राज्य की राबड़ी सरकार में मंत्री थे। अनंत सिंह जदयू के टिकट पर विधानसभा का चुनाव जीत चुके हैं। 

Source: https://www.jagran.com/bihar/patna-city-congress-not-agree-with-rjd-on-tented-figure-candidates-tickets-to-anant-singh-and-pappu-yadav-18926081.html

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  • Slide 1
  • Slide 2
Copyright © 2020 Gopalganjnews. All Rights Reserved.
Powered by SBeta TechnologyTM
WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com